Health

इम्यूनिटी कम होने के कारण लक्षण और होम्योपैथिक उपचार

इम्यूनिटी कम होने के कारण लक्षण और होम्योपैथिक उपचार

हमें अपने दैनिक जीवन में समय-समय पर छोटी बड़ी बीमारियों का सामना करना पड़ता रहता हैं. लेकिन अगर हम इन छोटी बड़ी बीमारियों को अनदेखा कर देते हैं.

तो यही बीमारियां आगे चलकर हमारे शरीर में किसी बड़ी बीमारी का कारण बन जाती हैं. क्योंकि यह छोटी बीमारियां पहले हमारे शरीर को कमजोर कर देती हैं. जिसके कारण बाद में हमारे शरीर में जब भी कोई बड़ी बीमारी होती है

तो हमारा शरीर इन बीमारियों से लड़ नहीं पाता फिर हमें काफी परेशानी होने लगती हैं. इसलिए हमें इन छोटी बड़ी बीमारियों से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना बहुत जरूरी हैं.

तो आज इस ब्लॉग में हम आपको इम्यूनिटी कम होने के कारण, लक्षण व इसके होम्योपैथिक उपचार के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं.

इम्यूनिटी क्या होती है

what is immunity in Hindi – करोना काल में आप सभी ने इम्यूनिटी का नाम बहुत सुना होगा और जिन लोगों की इम्युनिटी करोना काल में ज्यादा थी उन लोगों को इस महामारी में इतनी ज्यादा समस्या नहीं हुई.

लेकिन जिन लोगों की इम्युनिटी पहले से ही कमजोर थी उन लोगों के शरीर में काफी सारी बीमारियां उत्पन्न होने लगी थी इम्यूनिटी एक ऐसी पावर होती हैं. जो कि हमारे शरीर में छोटी-बड़ी बैक्टीरिया और फंगल जैसी बीमारियों से लड़ने में मदद करती हैं.

इम्यूनिटी को हिंदी में रोग प्रतिरोधक क्षमता कहा जाता हैं. इसी के कारण हम किसी भी प्रकार की बीमारी से लड़ने में सक्षम होते हैं. जब हमारे शरीर में कोई बीमारी उत्पन्न होती हैं. तो हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता हैं. डॉक्टर सबसे पहले हमें इम्यून सिस्टम मजबूत करने की दवाई देते हैं.

जिससे हमारा शरीर बीमारियों से लड़ने के लिए सक्षम हो पाता हैं. लेकिन कई बार हम अपने इम्यून सिस्टम के कमजोर होने पर इसकी तरफ इतना ध्यान नहीं देते और इसी की वजह से हमें खांसी, जुखाम, बुखार और इसके अलावा कई छोटी-बड़ी बीमारियों का सामना करना पड़ता है.

अगर आपको इन छोटी बड़ी बीमारियों से बचना हैं. तो हमें अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत रखना बहुत जरूरी हैं. जिसके लिए हमें नियमित रूप से पोस्टिक आहार का सेवन करना चाहिए.

जब भी हमारे शरीर में कोई छोटी बड़ी बीमारी होती हैं. तब हमें तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर के पास चेकअप करवाना चाहिए.

इम्यून सिस्टम के कमजोर होने के कारण

Cause to weak immune system in Hindi – ऐसा बिल्कुल भी नहीं हैं. कि कमजोर लोगों का ही इम्यून सिस्टम कमजोर होता हैं. बल्कि तंदुरुस्त लोगों का भी इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता हैं. क्योंकि इम्यून सिस्टम के कमजोर होने के पीछे कई अलग-अलग कारण होते हैं. जैसे

  • ज्यादा लंबे समय तक शराब बीड़ी सिगरेट तंबाकू जैसी चीजों का सेवन करना
  • ज्यादा मिर्च मसालेदार भोजन का सेवन करना
  • किसी भी प्रकार की छोटी बड़ी बीमारी को अनदेखा करना
  • योग, व्यायाम और दैनिक गतिविधियों से दूर रहना
  • तले भुने हुए भोजन का सेवन करना
  • ज्यादा हस्तमैथुन और संभोग करना
  • फल फ्रूट और कच्ची सब्जियों का सेवन न करना
  • गरीबी और भुखमरी में जीवन व्यतीत करना
  • साफ व स्वस्थ पानी न पीना
  • बासी और दूषित भोजन का सेवन करना
  • साफ सुथरी जगह पर न रहना
  • किसी भी प्रकार की सुंदर वायरस बीमारी से ग्रस्त होना

इसके अलावा भी किसी भी इंसान की इम्यून सिस्टम के कमजोर होने के पीछे काफी सारे और अलग-अलग कारण हो सकते हैं

इम्यून सिस्टम कमजोर होने के लक्षण

Symptoms of weak immune system in Hindi – जब किसी इंसान का इम्यून सिस्टम कमजोर होने लगता हैं. तब उस इंसान में इस समस्या के कई अलग-अलग लक्षण दिखाई देना शुरू हो जाते हैं. जो कि निम्नलिखित हैं.

  • रोगी के शरीर में थकावट आलस्य जैसी स्थिति उत्पन्न होने लगती है
  • रोगी को ज्यादा नींद आने लगती है
  • रोगी को बेचैनी घबराहट होने लगती है
  • रोगी के हाथ पैरों में हल्का दर्द होने लगता है
  • रोगी को बार बार खांसी, जुखाम जैसी समस्याएं उत्पन्न हो जाती है
  • रोगी को हल्का बुखार और दूसरी वायरल बीमारियां होने लगती है
  • रोगी को हल्का पेट दर्द, सिर दर्द और थकावट आने लगती है
  • रोगी का किसी भी काम को करने में मन नहीं लगता
  • रोगी की भूख प्यास कम हो जाती है
  • रोगी ज्यादातर अकेला रहना पसंद करता है
  • रोगी का स्वभाव गुस्सैल और चिड़चिड़ा हो जाता है
  • रोगी के शरीर में दूसरी खतरनाक बीमारियां जैसे पीलिया आदि उत्पन्न हो जाती है
  • रोगी शारीरिक और मानसिक रूप से कमजोर होने लगता है

इसके अलावा भी इम्यून सिस्टम के कमजोर होने पर हमारे शरीर में किसी भी प्रकार की बीमारी उत्पन्न हो सकती है.

इम्यून सिस्टम को मजबूत करने की होम्योपैथिक दवा

Homeopathic medicine to strengthen the immune system in Hindi – इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए? – अगर किसी इंसान का इम्यून सिस्टम कमजोर हैं. उसको इस समस्या के शुरुआती लक्षण दिखाई दे रहे हैं.

तो वह इंसान काफी सारी अलग-अलग प्रकार की होम्योपैथिक दवा का इस्तेमाल करके अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकता हैं. और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है.

1, इकिनेशिया (echinacea)

कई बार हमारे शरीर में इम्यून सिस्टम के कमजोर होने पर खांसी और जुकाम जैसी समस्याएं बार-बार होने लगती हैं. और इसी के चलते हमारे शरीर में फिर दूसरी कई बीमारियां भी पैदा होने लगती हैं.

ऐसी स्थिति उत्पन्न होने पर आपको होम्योपैथिक इकिनेशिया (echinacea) दवा का सेवन करना चाहिए यह दवा हमारे शरीर में उन सभी लक्षणों को ठीक करने में मदद करती है.

2. लाइकोपोडियम 30 (Lycopodium 30)

काफी सारे लोगों में हर बार जब मौसम बदलता हैं. तब बार बार जुकाम, खांसी, छींक जैसी समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं. और ऐसी स्थिति में रोगी को कई बार हल्का बुखार और सिर दर्द जैसी बीमारी हो जाती हैं.

अगर आपके अंदर बार-बार यह समस्या उत्पन्न हो रही हैं. तब आपको होम्योपैथिक लाइकोपोडियम 30 (Lycopodium 30) दवा का सेवन करना चाहिए यह दवाई उन समस्याओं में काफी फायदेमंद मानी गई है.

3. आर्सेनिक एल्बम (arsenic album)

आर्सेनिक एल्बम (arsenic album) एक ऐसी होम्योपैथिक दवा हैं. जो कि करोना काल में भी काफी कारगर साबित हुई थी क्योंकि यह हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाले वायरल इंफेक्शन को जड़ से खत्म करने में मदद करती हैं.

जिसके कारण हमें काफी सारी अलग-अलग समस्याओं से छुटकारा पाने में मदद करती मिलती हैं. अगर आपको बार-बार एलर्जी, फूड पॉइजनिंग, एंजायटी, डिप्रैशन जैसी समस्या का सामना करना पड़ रहा हैं. तो आप इस दवाई का सेवन कर सकते हैं.

4. ऑसिमम सैंक्टम (ocimum sanctum)

जब भी किसी इंसान का इम्यून सिस्टम कमजोर होता हैं. तब हमें खांसी, जुखाम, केमिकल स्ट्रेस, फिजिकल स्ट्रेस जैसी समस्याएं ज्यादा देखने को मिलती हैं. और इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आपको होम्योपैथिक स्ट्रेस दवा का सेवन करना चाहिए.

यह एक एंटी बैक्टीरियल एंटी, वायरल एंटी, फंगल दवा हैं. जो कि आपको इन सभी परेशानियों से छुटकारा दिलाने में मदद करती हैं. और यह आपके इम्यून सिस्टम को काफी तेजी से बूस्ट करती है.

5. टीनोस्पोरा कार्डीफोलिया (Tinospora cardifolia)

जब भी हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम कमजोर होता हैं. तब हमारे शरीर में कई और चीजों का भी संतुलन बिगड़ जाता हैं. और इसी की वजह से हमें कई दूसरी परेशानियों का भी सामना करना पड़ता हैं.

जिसमें हिमोग्लोबिन, प्लेट्स का बढ़ना आदि इन सभी स्थिति के उत्पन्न होने पर आपको होम्योपैथिक टीनोस्पोरा कार्डीफोलिया (Tinospora cardifolia) दवा का सेवन करना चाहिए. यह दवा इन सभी चीजों से छुटकारा दिलाने में मदद करती हैं.

इसके अलावा भी होम्योपैथिक की काफी सारी और ऐसी दवाई आती हैं. जो कि आपके इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में मदद करती है.लेकिन जब भी आपका इम्यून सिस्टम कमजोर होता हैं.

तब सबसे पहले आपको किसी अच्छे स्पेशलिस्ट डॉक्टर के पास जाना चाहिए और बिना किसी सलाह के इन दवाइयों का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए इन दवाइयों का सेवन करने से पहले भी आपको किसी अच्छे डॉक्टर से जानकारी लेना जरूरी है.

क्या होम्योपैथिक दवा इम्यूनिटी बढ़ाती है? इम्यूनिटी मजबूत करने के लिए क्या करें? इम्यूनिटी बढ़ाने से क्या होता है? इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button