Health

हृदय बढ़ने के कारण लक्षण व उपचार

हृदय बढ़ने के कारण लक्षण व उपचार

कई बार आपने सुना होगा कि कई लोगों का हृदय बिल्कुल कमजोर होता है और कुछ ही पलों में उनकी हृदय की गति बढ़ जाती है जब कोई लड़ाई झगड़ा या कोई घटना होती है तब उन लोगों का हृदय बहुत तेजी से धड़कने लगता है और यह कोई आम समस्या नहीं है

बल्कि यह एक बड़ी समस्या है कई बार रोगी के इतने तेज हृदय के धड़कने से उसकी मौत भी हो सकती है तो आज के इस ब्लॉग में हम हृदय की धड़कन बढ़ने के कारण लक्षण और इसके उपचार आदि के बारे में बात करेंगे इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे कि हृदय की धड़कन क्यों बढ़ती है इसके बढ़ने के पीछे किन-किन कारणों का हाथ होता है और इसको कैसे नियंत्रण में किया जा सकता है

हृदय की गति बढ़ना

Increased heart rate in Hindi – किसी भी इंसान की दिल की धड़कन का छोटी-छोटी बातों पर बढ़ना उस इंसान के दिल की कमजोरी का कारण दर्शाती है क्योंकि जब किसी इंसान के दिल की धड़कन बढ़ने लगती है

तब इससे उसके शरीर का रक्त संचार भी बढ़ जाता है और उसको घबराहट महसूस होने लगती है एक सामान्य इंसान के हृदय गति 50 से 90% बीट होती है लेकिन कई बार हृदय की गति 90 से 120 बीट हो जाती है

और इससे रोगी को कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती है अगर किसी की धड़कन किसी घटना या किसी भी बात को सुनकर बढ़ने लगती है तब उसकी हृदय की गति को स्थिर करना बहुत जरूरी है क्योंकि इससे रोगी की मौत भी हो सकती है जब किसी की हृदय की गति बड़ने लगती है तब इस स्थिति को टाचिकार्डिया कहा जाता है इसका मतलब होता है कि रोगी की सामान्य हृदय की धड़कन का बढ़ना

हृदय गति बढ़ने के कारण

Cause to increased heart rate in Hindi – अगर किसी के हृदय की गति पड़ती है तब इसका सबसे बड़ा और सबसे मुख्य कारण उस इंसान के हृदय का कमजोर होना होता है

इससे उस इंसान को जब भी किसी घटना या किसी ऐसी बात के बारे में पता लगता है जिससे उसको बहुत ज्यादा प्यार हो या लगाओ हो इससे उस इंसान के हृदय की गति एकदम बढ़ने लगती है और इससे वह इंसान बेहोश भी हो सकता है इसके अलावा इस समस्या के कई और कारण होते हैं

जैसे ज्यादा तंबाकू बीड़ी सिगरेट और नशीली चीजों का सेवन करना, ज्यादा अधिक मांस का सेवन करना, शरीर में खून की कमी होना,रोगी को दिल की बीमारी होना, रोगी के महत्व से संबंधित बीमारी होना, रोगी को बुखार रहना, रोगी को डिहाइड्रेशन होना है रोगी के जन्म के पास हृदय स्ट्रक्चर में समस्या आना

हृदय गति बढ़ने के लक्षण

Symptoms of increased heart rate in Hindi – अगर किसी इंसान का हृदय कमजोर है और उसकी गति बार-बार बढ़ने लगती है तब उस इंसान के अंदर आपको कई प्रकार के तब उसके कई लक्षण भी दिखाई देते हैं

जैसे रोगी को सोने में तकलीफ होना रोगी के शरीर में थकावट आलस में कमजोरी होना, रोगी का शरीर बिल्कुल दुबला पतला होना, रोगी क्या करते बहुत तेजी से फड़कना, रोगी का वजन कम होना, कठोर कार्य करते ही सांस चढ़ना,

छोटी छोटी बातों पर गुस्सा आना, रोगी का स्वभाव चिड़चिड़ा होना, रोगी को बेचैनी होना, लड़ाई झगड़े में जाते ही रोगी बेहोश हो जाना, रोगी को मानसिक रोग होना,

इसके अलावा रोगी को हृदय से संबंधित रोग होना रोगी को फेफड़ों से संबंधित बीमारियां होना या रोगी के जन्म से ही हृदय का स्ट्रक्चर सही न बन पाना रोगी को तेज बुखार होना रोगी रोगी के ब्लड प्रेशर में दिक्कत आना रोगी के रोगी को मानसिक तनाव और अवसाद उत्पन्न होना यह कुछ ऐसे लक्षण है जो कि हृदय की गति बढ़ने पर दिखाई देते हैं

क्या क्या करें

  • रोगी को हमेशा हल्का व सुपाच्य भोजन खाना चाहिए
  • रोगी को हर रोज सुबह सुबह खुली हवा में घूमना चाहिए
  • रोगी को हल्के-फुल्के व्यायाम करने चाहिए
  • रोगी को ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए
  • रोगी को हर रोज 6 से 8 लीटर तक पानी पीना चाहिए
  • रोगी को लक्षण दिखाई देते ही तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए

क्या नहीं करना चाहिए

  • रोगी को ज्यादा कठोर कार्य बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए
  • अगर रोगी की धड़कन बढ़ने लगती है तब उसको लड़ाई झगड़े में नहीं जाना चाहिए
  • रोगी को ज्यादा शराब तंबाकू बीड़ी सिगरेट और नशीली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • रोगी को ज्यादा कठोर व्यायाम व परिश्रम नहीं करना चाहिए
  • रोगी को सीढ़ियों में चढ़ने से बचना चाहिए
  • रोगी को ऐसी बातों को बिल्कुल भी नहीं बताना चाहिए जिससे उसके हृदय को धक्का लगे

उपचार

अगर किसी इंसान का एक जगह पर बैठे-बैठे हृदय की गति बढ़ने लगती है या उसको घबराहट हो रही है तब उसको ज्यादा घबराना नहीं चाहिए और गहरी सांसे लेनी चाहिए और उसके चेहरे पर ठंडे पानी के छींटे डालने चाहिए रोगी को उस घटना के बारे में ज्यादा बिल्कुल भी नहीं सोचना चाहिए

जिससे उसको यह समस्या उत्पन्न हुई है और अगर रोगी को चक्कर आते हैं या सीने में दर्द और बेहोशी जैसी हालत उत्पन्न होती है तब उसको तुरंत डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए अगर आप इस समस्या के ऊपर समय पर ध्यान नहीं देते तो यह आगे जाकर आपके लिए कई और समस्याओं का कारण बन सकती है

लेकिन फिर भी अगर किसी इंसान के हृदय की गति बढ़ती है तब उसको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अपने सभी टेस्ट करवा कर दवाइयां शुरू करनी चाहिए यह बीमारी एक जानलेवा बीमारी है इससे बचना बहुत जरूरी है

पल्स रेट बढ़ने पर क्या करे अनियमित दिल की धड़कन के लिए होम्योपैथिक उपचार हृदय रोग आयुर्वेदिक उपचार पल्स रेट बढ़ने के कारण घर पर अनियमित दिल की धड़कन उपचार महिलाओं में हृदय रोग के लक्षण हृदय रोग के लक्षण और उपचार हृदय रोग के कारण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button