Tech

Disk Operating System DOS की जानकारी

Disk Operating System DOS की जानकारी

आपने ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में तो सुना ही होगा। Hardware और User के बीच में Communication करने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता है। सबसे पहले DOS डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया गया था वह User और hardware को कम्युनिकेट करा पाए। आज हम आपको इस आर्टिक्ल में बताएंगे की डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है। जिसको DOS भी कहते हैं।

operating System क्या है? What is operating system? in Hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम को समझने के लिए हम एक उदाहरण लेते हैं जैसे के मान लीजिए आपको हिंदी आती है और इंग्लिश नहीं आती है या कोई ऐसी भाषा नहीं आती है जो आपको जरूरी हो ताकि आप दूसरे आदमी से कांटैक्ट कर पाये। तो ऐसा कम्युनिकेशन करने के लिए हम किसी दूसरे आदमी को बुलाते हैं

जिसको की हिंदी और इंग्लिश दोनों आती हो। तो यही काम ऑपरेटिंग सिस्टम का है। मान लो हमें कंप्यूटर की लैंग्वेज नहीं आती है और हमें कंप्यूटर पर बताए गए कीबोर्ड का पता है इसको कंप्यूटर को समझाने के लिए हम operating System का इस्तेमाल करते हैं ताकि operating System के माध्यम से computer हमारे बताए गए कमांड को पूरा कर पाएं।

डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है?

What is disk operating system? in Hindi – किसी कंप्यूटर सिस्टम में काम करने के लिए यह सबसे जरूरी ऑपरेटिंग सिस्टम है। सबसे पहले इसी सिस्टम का इस्तेमाल करके कंप्यूटर के हार्डवेयर से कम्युनिकेट किया गया था। लेकिन आजकल इसका ज्यादा उपयोग नहीं होता है जो लोग प्रोग्रामिंग लैंग्वेज लिखते हैं वह इसका कुछ इस्तेमाल करते हैं।

अब आप विंडो 8 window 10 जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करते हैं जोकि DOS से शुरु हुई थी। डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम(DOS) को टीम पीटरसन ने बनाया था।

इसको बाद में 1981 में इसको माइक्रोसॉफ्ट ने लोगों के सामने लाया। DOS को कुछ कमांड देकर आप कई चीजों को बदलाव कर सकते हैं, कई चीजें ओपन कर सकते हैं, इस तरह से डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया गया और लागू किया गया।

DOS के क्या क्या काम है? What are the functions of DOS? in Hindi –

  • डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम(DOS) User को कंप्यूटर से जोड़ने में मदद करता है।
  • नई फाइल बनाना, डिलीट करना और फाइल का नाम चेंज करना इस तरह के काम से DOS से आसानी से किया जा सकता है।
  • DOS से हम कम्प्युटर में Store की हुई फ़ाइल की लिस्ट भी देख सकते हैं और हमारे कंप्यूटर में कितने स्टोरेज है वह भी हम जान सकते हैं।
  • इस सिस्टम से हम हार्डवेयर के बारे में जान सकते हैं। इसके इस्तेमाल से हम अपने कम्प्युटर की फ़ाइल को बैकअप के तौर पर ले सकते हैं।
  • DOS में CPU और मेमोरी को कंट्रोल करता है।
  • DOS में फाइल मैनेजमेंट भी होता है इससे कंप्यूटर की मेमोरी मैनेजमेंट भी की जा सकती है।
  • इसके साथ-साथ है कंप्यूटर की इनपुट/आउटपुट सिस्टम को भी कंट्रोल करता है।

डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम(DOS ) की कमांड निम्नलिखित है?

  • CD:- डायरेक्टरी को चेंज करने के लिए
  • Dir:- किसी फोल्डर मा डायरेक्टरी की लिस्ट देखने के लिए
  • Copy:- फाइल को कॉपी करने के लिए
  • Edit:- फाइल को एडिट करने के लिए
  • Move:- किसी फ़ाइल को move करने के लिए
  • Ren:- फाइल का नाम बदलने के लिए
  • Del:- सभी file को डिलीट करने के लिए
  • cls:- स्क्रीन को क्लियर करने के लिए
  • Format:- डिस्क को फॉर्मेट करने के लिए

इस पोस्ट में आपको डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम को समझाइए डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है डॉस ऑपरेटिंग सिस्टम कमांड्स समझाने डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम डॉस के पांच आंतरिक और बाह्य आदेशों लिखने operating system क्या है

डॉस ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है डॉस के आंतरिक आदेशों के बारे में बताया गया है अगर इसके अलावा आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें. और इस पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि दूसरे भी इस जानकारी को जान सकें.

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button