Health

पायरिया रोग क्या है इसके कारण लक्षण उपचार

पायरिया रोग क्या है इसके कारण लक्षण  उपचार

हमारे लिए दांतो को सुरक्षित रहना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर हमारे दांतो में कोई भी बीमारी हो जाती है तब हमारे दांत जल्दी जल्दी गिर जाते हैं और फिर हमें खाना खाने में बहुत परेशानी होती है और कई लोगों की दांत कम उम्र में ही गिर जाने से उनको नए दांत लगवाने भी पढ़ते हैं जो कि इतने ज्यादा स्ट्रांग नहीं होते इसके साथ ही दांत हमारी सुंदरता का भी प्रतीक होते हैं

क्योंकि कई लोगों के दांत आगे पीछे व मुंह से बाहर निकले होते हैं जो कि अजीब दिखाई देते हैं लेकिन कई लोगों के दांतो में अलग-अलग प्रकार की बीमारियां लग जाती है जिनसे उनके दांत जल्दी गिर जाते हैं

तो इस ब्लॉग में हम ऐसी ही एक दांतो की बीमारी के बारे में बात करने वाले हैं इस ब्लॉग में हम बात करेंगे पायरिया रोग के बारे में इस ब्लॉग में हमें इस रोग के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार आदि के बारे में विस्तार से जानेंगे.

पायरिया रोग क्या होता है ?

What is pyorrhea disease? in Hindi – पायरिया रोग हमारे दांतो से जुड़ी हुई कैसी खतरनाक बीमारी है जो कि हमारी दांतो और मसूड़ों के बीच संक्रमण पैदा करती है जिससे कुछ समय बाद हमारे दांत अपने आप टूटने लगते हैं क्योंकि इस संक्रमण के कारण हमारे दांतो की पकड़ मसूड़ों से कमजोर होने लगती है

और फिर धीरे-धीरे मसूड़ों में दर्द व सूजन होने लगती है यह संक्रमण हमारे दांतों में बैक्टीरिया के कारण उत्पन्न होता है जो कि हमारे दांतो के बीच ही छिपे होते हैं और धीरे-धीरे यह बैक्टीरिया अपनी संख्या को बढ़ा लेते हैं और फिर पूरे मुंह में फैल जाते हैं जिससे रोगी के सभी दांत टूट टूट कर बाहर निकलने लगते हैं

जब किसी इंसान के मुंह में पायरिया रोग से संबंधित समस्या उत्पन्न होती है तब उसके मुंह से बदबू भी आने लगती है जो कि हमारे लिए कई बार शर्मिंदगी का कारण भी बन जाती है इसके अलावा हमारे दांत बिल्कुल हिलने लगते हैं और हमारे दांतो के बीच खाना फंस जाता है और हम सही से दांतो की सफाई भी नहीं कर पाते हैं

इसलिए पायरिया रोग का जल्दी से जल्दी इलाज करवाना बहुत जरूरी होता है और मुख्य रूप से पायरिया रोग दो प्रकार का होता है मसूड़ों की सूजन और गंभीर पायरिया रोग

पायरिया रोग के कारण

Causes of pyorrhea disease in Hindi – अगर पायरिया रोग के लक्षणों के बारे में अगर पायरिया रोग के कारणों के बारे में बात की जाए तो इस बीमारी के होने के बहुत सारे कारण होते हैं जैसे लगातार धूम्रपान करना, ज्यादा तली हुई चीजों का सेवन करना जैसे चिप्स कुरकुरे बिस्किट टॉफी वह फास्ट फूड आदि, लगातार कोल्ड ड्रिंक का सेवन करना,

लड़कियों व महिलाओं में हार्मोनल के परिवर्तन होने के कारण, लगातार मधुमेह रोग की दवाइयों का सेवन करना, रोगी को मधुमेह रोग की समस्या होना, रोगी को एड्स जैसी अन्य खतरनाक बीमारियां होना, रोगी का ज्यादा शराब, तंबाकू व चाय कॉफी आदि का सेवन करना, रोगी का पान सुपारी खाना,

रोगी रोगी का ज्यादा मीठी चीजों का सेवन करना, रोगी का लगातार एलोपैथिक दवाइयों का सेवन करना आदि की समस्या की मुख्य कारण होते हैं जिनसे किसी भी इंसान के मुंह में पायरिया रोग हो सकता है

पायरिया रोग के लक्षण

Symptoms of pyorrhea disease in Hindi  – जब किसी इंसान के मुंह में पाई है रोग दस्तक देता है तब इसकी रोगी को बहुत सारे लक्षण भी दिखाई देते हैं जिनको रोगी आसानी से पहचान सकता है जैसे दांतो में शुरू में हल्का व बाद में तेज दर्द होना, रोगी के मसूड़ों का रंग लाल दिखाई देना,

रोगी के मसूड़ों में सूजन आना, रोगी को खाते पीते समय दर्द होना, रोगी के दांत हिलने लगना, रोगी के दांतो का लगातार टूटना, रोगी के मुंह से बदबू आना, रोगी को सांस लेते समय बदबू महसूस होना, रोगी के दांत लंबे दिखाई देना,

रोगी को ठंडा या गर्म खाते समय तेज दर्द होना, रोगी को मुंह में बुर्स करते समय दर्द होना रोगी के मुंह में खट्टा या ज्यादा मीठा खाने पर दर्द होना रोगी के दांतो का रंग बदल जाना आदि इस समस्या के मुख्य लक्षण होते हैं

पायरिया रोग से बचाव

Hrevention of pyorrhea disease in Hindi – यह रोग ज्यादातर 30 वर्ष की आयु के ऊपर के लोगों में उत्पन्न होता है लेकिन कई बार यह रोग छोटे बच्चों और कम उम्र के युवाओं में भी उत्पन्न हो जाता है इसलिए इस रोग से बचाव के लिए आपको कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना जरूरी है जो कि आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है जैसे

  • आपको खाना खाने के तुरंत बाद अपने दांतो को अच्छी तरह साफ करना चाहिए
  • आपको हर रोज खाना खाने के बाद ब्रश करना चाहिए
  • आपको ज्यादा फास्ट फूड व तले हुए भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको ज्यादा बीड़ी सिगरेट तंबाकू शराब आदि का सेवन भी नहीं करना चाहिए
  • आपको कोल्ड ड्रिंक के सेवन से बचना चाहिए
  • आपको ज्यादा मिठाई व ड्राई फूड्स का भी सेवन नहीं करना चाहिए
  •  आपको मसूड़ों में दर्द होने पर तेज गर्म व तेज ठंडी खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको खट्टे पदार्थ जैसे नींबू मौसमी अंगूर आदि चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको पायरिया रोग के लक्षण दिखाई देते ही तुरंत डॉक्टर से अपने दांतो का चेकअप करवाना चाहिए
  • आपको दूषित पानी का सेवन नहीं करना चाहिए
  • आपको अपने दांतो में नुकीली चीजें जैसे सुई माचिस की तिल्ली व तारा नहीं मारने चाहिए

पायरिया रोग का उपचार

Treatment of pyorrhea disease in Hindi – अगर आपके मुंह में पायरिया रोग से संबंधित समस्या उत्पन्न हो जाती है तब आप कुछ घरेलू चीजों का इस्तेमाल करके इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं और इस समस्या को आगे बढ़ने से भी रोक सकते हैं जैसे

  • आपको हर रोज अपने दांतों में आपको नारियल का तेल इस्तेमाल करना चाहिए
  • आपको हर रोज एक छोटा चम्मच नमक और हल्का गुनगुना पानी मिलाकर 1 मिनट तक कुलकुला करना चाहिए ऐसा करने से आपके दांतों में पायरिया से राहत मिलती है
  • आपको अपने मसूड़ों पर बेकिंग सोडा लगाना चाहिए इससे आपके मसूड़ों को दर्द से राहत मिलती है
  • आपको एक छोटा चम्मच बेकिंग सोडा छोटा एक छोटा चम्मच नमक और आधा कटा हुआ नींबू लेकर इन तीनों चीजों को मिलाकर ब्रश करना चाहिए
  • आपको तुलसी के पत्तों और सरसों के तेल को मिलाकर बेस्ट बनाना चाहिए और फिर उस पर को अपने मसूड़ों पर लगाना चाहिए
  • आपको टी ट्री तेल की कुछ बूंदे अपने टूथपेस्ट में मिलाकर ब्रश करना चाहिए
  • आपको एक छोटा अदरक के टुकड़े को कूटकर अपने दांतो पर लगाना चाहिए
  • आपको अपने दांतो मार एक हल्की चुटकी लाल मिर्च पाउडर अपने टूथपेस्ट में मिलाकर ब्रश करना चाहिए

लेकिन फिर भी अगर आपके दांतों में पायरिया रोग से संबंधित समस्या उत्पन्न हो जाती है तब आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अपनी दांतो के अच्छे से चेकअप करवाने चाहिए और आपको डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाइयों को नियमित रूप सेवन करना चाहिए क्योंकि एक बहुत ही खतरनाक समस्या है इससे आपके मुंह के सभी दांत टूट सकते हैं

पायरिया रोग कैसे होता है पायरिया रोग किस विटामिन की कमी के कारण होता है पायरिया का होम्योपैथिक इलाज पायरिया का आयुर्वेदिक इलाज पायरिया का देसी इलाज क्या है पतंजलि पायरिया की दवा पायरिया का मंजन बनाने की विधि पायरिया रोग कहां होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button