Health

पेशाब रुकने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार

पेशाब रुकने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार

हम जो भी चीज खाते पीते हैं उसका हमारे मल के द्वारा बाहर निकलना बहुत जरूरी होता है अगर हमारे द्वारा खाया पिया हुआ मल के द्वारा बाहर नहीं निकलेगा तब हमारे शरीर में बहुत सारी परेशानियां तो होने वाली ही है इसके साथ हमारे शरीर में कई अन्य बीमारियां उत्पन्न होने लगती है आपने सुना होगा कि बहुत बार कई लोगों का पेशाब रुक रुक कर आता है.

कई लोगों में पेशाब एकदम से बंद होने की समस्या उत्पन्न हो जाती है तब इससे रोगी को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है तो आज किस ब्लॉग में हम पेशाब बंद होने के कारण, लक्षण, बचाव व इसके उपचार आदि के बारे में विस्तार से जानेंगे.

पेशाब रुकना

Urinary retention in Hindi – जब किसी इंसान को यह बीमारी हो जाती है तब रोगी को पेशाब करते समय एकदम तेज जलन होती है वह तेज दर्द होने लगता है जिससे रोगी को बहुत सारी परेशानी होती है अगर आप इस समस्या को समय रहते नियंत्रण में कर लेते हैं तब इससे आपको ज्यादा परेशानी नहीं होगी

लेकिन इस समस्या को हल्के में लेना रोगी के लिए भारी पड़ सकता है क्योंकि यह समस्या रोगी के शरीर में कई अन्य बीमारियां उत्पन्न कर सकती हैं यदि किसी इंसान को यह समस्या उत्पन्न हो जाती है तब उसको सबसे ज्यादा पानी पीना चाहिए और तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना चाहिए

पेशाब रुकने के कारण

Cause to urinary retention in Hindi – अगर पेशाब रुकने की समस्या के बारे के कारणों के बारे में बात की जाए तो इस समस्या के उत्पन्न होने के पीछे किसी बड़ी बीमारी का भी हाथ हो सकता है और इसके कुछ सामान्य कारण भी होते हैं जैसे रोगी का ज्यादा दवाइयों का इस्तेमाल करना, रोगी का पानी कम पीना,

रोगी का ज्यादा कठोर भोजन करना, रोगी का पेय पदार्थों का सेवन न करना, रोगी में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ना या कम होना,रोगी के प्रोस्टेट में कैंसर होना, रोगी का ज्यादा उत्तेजक पदार्थों का सेवन करना, रोगी के लिंग पर किसी कारण चोट लगना,

रोगी के लिंग के नीचे जखम या संक्रमण होना, रोगी को पथरी रोग होना आदि इस समस्या के कारण होते हैं लेकिन इस समस्या की अभी मुख्य कारणों के बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है

पेशाब रुकने के लक्षण

Symptoms of urinary retention in Hindi – जब किसी इंसान जब किसी इंसान में पेशाब रुकने की समस्या उत्पन्न होती है तब इससे पहले रोगी में कई लक्षण दिखाई देते हैं जिससे आप समस्या को आसानी से पहचान सकते हैं जैसे रोगी का हिसाब एकदम से बाहर निकलना, रोगी के पेशाब में जलन होना,

रोगी को पेशाब करते समय दर्द होना, रोगी का पेशाब बार बार आना, रोगी का पेशाब करने के बाद कुछ बूंदे पेशाब निकलना, रोगी का पेशाब गहरे पीले रंग का आना, रोगी के पेशाब से खून निकलना, रोगी का पेशाब गहरे लाल व काले रंग का होना,लंबे समय तक ठंडे क्षेत्र में रहना, छोटे बच्चों में पेट के कीड़े उत्पन्न होना किडनी में इन्फेक्शन होना, रोगी के यूरिनल में इन्फेक्शन होना

रोगी के पेशाब का रंग नारंगी हो जाना,रोगी का पेशाब बूंद बूंद बन कर आना, रोगी को पेशाब करते समय कठिनाई होना, रोगी का पेशाब बिल्कुल बंद हो जाना, रोगी के पेशाब का रंग बदलना, रोगी को पेशाब करते समय चीस लगना, रोगी के पेशाब में गाढ़ापन दिखाई देना आदि समस्या के मुख्य लक्षण होते हैं इसके अलावा भी इस समस्या के बहुत सारे और लक्षण हो सकते हैं

पेशाब रुकने से बचाव

Prevention of urinary retention in Hindi – इस समस्या से बचने के लिए आपको कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है जो कि आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकती है या इस समस्या के उत्पन्न होने पर आप कुछ ऐसी चीजें का सेवन करने से बच सकते हैं जो कि आपके लिए खतरनाक होती है

  • रोगी को ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करना चाहिए
  • रोगी को ज्यादा से ज्यादा पानी वाले फलों का सेवन करना चाहिए जैसे तरबूज खरबूजा पपीता मौसमी अनार संतरे आदि
  • रोगी को ज्यादा से ज्यादा पेय पदार्थों का सेवन करना चाहिए
  • रोगी को ज्यादा से ज्यादा कच्ची सब्जियों का सेवन करना चाहिए जैसे ककड़ी मूली गाजर शलगम आदि
  • रोगी को ज्यादा गर्म चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए
  • रोगी को लंबे समय तक भूखे और प्यासे नहीं रहना चाहिए
  • रोगी को ज्यादा कठोर भोजन का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए
  • रोगी को सुखी चीज जैसे बिस्किट,भुने हुए चने, मटर, मूंगफली आदि का सेवन नहीं करना चाहिए
  • रोगी को ज्यादा मिर्च मसालेदार भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए
  • रोगी को शराब व नशीली वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए
  • रोगी को बीड़ी सिगरेट तंबाकू पान गुटखा आदि का सेवन नहीं करना चाहिए
  • रोगी को ज्यादा कठोर परिश्रम नहीं करना चाहिए
  • रोगी को समय-समय पर अपने पेशाब की जांच करवाते रहना चाहिए
  • रोगी को प्रोस्टेट में संक्रमण व अन्य समस्या उत्पन्न होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए

पेशाब रुकने का घरेलू इलाज

Home remedies for urinary retention in Hindi – अगर आपको बार-बार पेशाब मेरे को हटाने अगर आप बार-बार पेशाब में रुकावट आने की समस्या से परेशान हैं तब आप कुछ आयुर्वेदिक व घरेलू चीजों का इस्तेमाल करके अपने इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं जैसे

  • आपको हर रोज 5 से 7 लीटर पानी का सेवन करना चाहिए आप जितना भी पानी पीते हैं यह आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होता है यह सिर्फ आपकी पेशाब की रुकावट को ही दूर नहीं करता बल्कि यह आपको अनेकों बीमारियों से बचाता है
  • आपको ज्यादा से ज्यादा दही व लस्सी का सेवन करना चाहिए यह भी आपके लिए बहुत फायदेमंद होती है
  • आपको ज्यादा से ज्यादा पेय पदार्थों का सेवन करना चाहिए और आपको ज्यादा से ज्यादा पानी वाले फलों का सेवन करना चाहिए जैसे तरबूज खरबूजा पपीता अंगूर अनार मौसमी संतरा किन्नू आदि
  • रोगी को ज्यादा से ज्यादा मूली गाजर शलगम आदि का सेवन करना चाहिए या गाजर का जूस भी पी सकते हैं
  • रोगी को नारियल के पानी और पालक के रस को मिलाकर पीना चाहिए यह भी आपके लिए बहुत फायदेमंद होता है
  • रोगी को हर रोज 2 ग्राम छोटी इलायची के चूर्ण को केले की जड़ के 20 ग्राम रस में मिलाकर लेने से बहुत फायदा होता है
  • रोगी को अडूसे का रस पीना चाहिए यह आपके पेशाब की रुकावट को खोलने में मदद करता है
  • रोगी को 30 रोगी को अरंड के तेल को पानी में मिलाकर पीना चाहिए यह आपके मूत्र की रुकावट को तुरंत खोल देता है
  • रोगी को सूरजमुखी के बीजों को पीसकर चूर्ण बनाकर पानी के साथ लेना चाहिए

लेकिन फिर भी अगर आप के पेशाब में रुकावट आ रही है तब आपको किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना चाहिए और अपने पेशाब का टेस्ट करवाना चाहिए या आप कुछ आयुर्वेदिक औषधियों में दवाइयों का इस्तेमाल करके भी इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं जिनके बारे में हमने आपको नीचे बताया है इन सभी को अब डॉक्टर की सलाह के अनुसार इस्तेमाल करें

पेशाब रुकने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार पेशाब न आने पर क्या किया जाए यूरिन इन्फेक्शन का आयुर्वेदिक इलाज पतंजलि यूरिन इन्फेक्शन में घरेलू उपाय बार-बार पेशाब आने की आयुर्वेदिक दवा बार-बार पेशाब आना और जलन होना घरेलू उपाय पेशाब की नली में इन्फेक्शन के लक्षण पेशाब रोग की दवा पेशाब खुलकर आने की दवा पतंजलि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button