Health

बच्चों के दस्त लगने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार

बच्चों के दस्त लगने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार

जब हमारे बच्चे 1 से 10 वर्ष की आयु के होते हैं तब उनमें अनेक प्रकार की अलग-अलग बीमारियां उत्पन्न होती रहती है और हमें अपने बच्चों को अलग-अलग बीमारियों से बचा कर रखना बहुत जरूरी होता है इसी तरह से कई बार हमारे छोटे बच्चों में दस्त की समस्या उत्पन्न हो जाती है जिससे हमारा बच्चा बहुत परेशान होता है अगर यह समस्या ज्यादा समय तक रह जाती है.

तब हमारे बच्चे में कमजोरी व अन्य समस्याएं उत्पन्न होने लगती है तो इस ब्लॉग में हम इसी समस्या के बारे में विस्तार से जानेंगे इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे बच्चों में दस्त लगने के कारण लक्षण बचाव उसके उपचार आदि के बारे में.

दस्त (अतिसार) क्या होता है ?

What is diarrhea? in Hindi – जब हमारा बच्चा लगभग 5 वर्ष से कम आयु का होता है तब उसमें दस्त लगने की समस्या बहुत ज्यादा देखी जाती है और जब किसी बच्चे को दस्त लगते हैं तब उसके शरीर में कई चीजों की कमी आने लगती है और अगर यह समस्या आपके बच्चे में ज्यादा समय तक रह जाती है

तब आपके बच्चे की मौत भी हो सकती है क्योंकि दस्त लगने से बच्चे के शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिससे कुछ समय पश्चात आपके बच्चे की मृत्यु हो सकती है एक रिपोर्ट के मुताबिक हर साल दुनिया भर में लगभग 10 लाख बच्चों की सिर्फ दस्त लगने के कारण ही मौत हो जाती है क्योंकि दस्त लगने से हमारा बच्चा कुपोषित हो जाता है

और उसके शरीर का विकास नहीं हो पाता आपने देखा होगा कि बहुत सारे बच्चे जिनको किसी प्रकार की बीमारी होती है वह अक्सर बिल्कुल कमजोर होते हैं आपके बच्चों में दस्त की समस्या कई प्रकार से उत्पन्न हो सकती है

दस्त के कारण

Causes of diarrhea in Hindi – आपके बच्चे को दस्त लगने के पीछे कई प्रकार के अलग-अलग कारण हो सकते हैं जैसे बच्चे को बोतल का दूध पिलाना, बच्चे के आसपास की साफ-सफाई न रखना, बच्चे की बोतल व निप्पल को बिना धोए बार-बार दूध पिलाना, मिलावट वाला दूध पिलाना, बच्चे को गंदे हाथों से भोजन कराना,

बच्चे को बिना ढके हुए व बासी भोजन का सेवन करवाना, बच्चे को दूषित पानी व दूषित चीजों का सेवन करवाना, बच्चे को फल व सब्जी आदि बिना साफ किए खिलाना, बच्चे के मुंह में उंगली मारना, बच्चे के आसपास गंदी चीजें रखना, बच्चे को गंदे कपड़े पहनाना, बच्चे को मिट्टी में छोड़ देना,

बच्चे का मिट्टी खाना, बच्चे की साफ सफाई का ध्यान रखना, बच्चे को ज्यादा दवाइयां देना आदि इस समस्या के मुख्य कारण होते हैं इसके अलावा भी बच्चों में दस्त कई और वजह से भी लग सकते हैं

दस्त  के लक्षण

Symptoms of diarrhea in Hindi – अगर आपके बच्चे को दस्त लगते हैं तब आपके बच्चे में कई अलग-अलग लक्षण दिखाई देते हैं जैसे बच्चे का बार बार पखाना जाना, बच्चे को दस्त बिल्कुल पतले आना, बच्चे को बार बार प्यास लगना, आपके बच्चे में कमजोरी दिखाई देना, बच्चे को थकान व बार-बार नींद आना,

बच्चे का स्वभाव चिड़चिड़ा होना, बच्चे की त्वचा ढीली हो जाना, बच्चे को सांस लेने में परेशानी होना, बच्चे की नाड़ी की गति सामान्य से तेज होना, बच्चे के मुंह व जीभ में खुश्की रहना, बच्चे को बार बार पेशाब करने की हाजत होना, बच्चे के पेशाब में कमी होना, बच्चे को दस्त बिल्कुल पीले आना, बच्चे को बार बार भूख लगना आदि इस समस्या के कुछ आम लक्षण होते हैं

दस्त  के बचाव

Prevention of diarrhea in Hindi – आपको अपने बच्चों को दस्त से बचाना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर आपके बच्चे को एक बार यह समस्या हो जाती है तब यह जल्दी से आपके बच्चे का पीछा नहीं छोड़ती इसके लिए आपको कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है जो कि आपके बच्चे को इस समस्या से बता सकती हैं जैसे

  • आपको अपने बच्चे को जितना हो सके सिर्फ माता का ही सतनपान करवाना चाहिए
  • आपको किसी कारणवश बाहर का दूध पिलाना पड़ता है तब आपको हमेशा साफ व स्वस्थ दूध पिलाना चाहिए
  • आपको बच्चे की बोतल में निप्पल आदि को अच्छे से गर्म पानी के साथ साफ करना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे के मुंह में उंगली नहीं मारने चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को दूषित चीजों के सेवन से बचाना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे के आसपास की साफ सफाई रखनी चाहिए और समय-समय पर उसके कपड़े बदलते रहना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को शौच करने के बाद अच्छे से धोना चाहिए वह साबुन से हाथ धोने चाहिए
  • आपको अपने बच्चे के भोजन को हमेशा ढक कर रखना चाहिए
  • बच्चे को भोजन खिलाने से पहले अपने बच्चे और अपने हाथों को अच्छे से साफ करना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को मिट्टी में भी नहीं खेलने देना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को दूषित पानी का सेवन नहीं कराना चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को मिलावट वाले दूध को पिलाने से बचना चाहिए
  • आपको समय-समय पर अपने बच्चे के नाखून काटते रहना चाहिए और बिस्तर को साफ रखना चाहिए
  • आपको अपने बच्चों को गंदे खिलौने नहीं देनी चाहिए क्योंकि कई बार बच्चे अपने खिलौनों को मुंह में डालने लगते हैं

दस्त  का उपचार

Treatment of diarrhea in Hindi – अगर आपके बच्चे को दस्त लग जाते हैं तब आप कुछ घरेलू चीजों का इस्तेमाल करके भी इस समस्या को ठीक कर सकते हैं जैसे

  • आपको अपने बच्चे को ज्यादा से ज्यादा पोटेशियम युक्त फल खिलाने चाहिए
  • आपको अपने बच्चे को ओआरएस का घोल देना चाहिए यह आपके बच्चे के शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता
  • आपको अपने बच्चे को चावल का पानी पिलाना चाहिए यह आपके बच्चे के दस्त को नियंत्रण में करने में मदद करता है
  • आपको अपने बच्चे को दही या लस्सी का सेवन करवाना चाहिए यह भी आपके बच्चे के लिए बहुत फायदेमंद होती है
  • आपको अपने बच्चे को एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू और हल्का नमक डालकर बच्चे को देना चाहिए इससे आपकी बच्चे की आंतों को बहुत फायदा मिलता है
  • आपको अपने बच्चे को केला खिलाना चाहिए क्योंकि केले में फाइबर की मात्रा होती है जो कि आपके बच्चे के दस्त को नियंत्रण में करता है
  • आपके आपको अपने बच्चे को नारियल का पानी पिलाना चाहिए यह भी आपके बच्चे के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है

लेकिन फिर भी अगर आपके बच्चे को बार बार दस्त की समस्या हो रही है या एकदम से आपके बच्चे को ज्यादा दस्त लग रहे हैं तब आपको तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाना चाहिए क्योंकि यह एक बहुत ही खतरनाक समस्या है इससे आपके बच्चे के शरीर में पानी की कमी हो सकती है

बच्चों के दस्त लगने के कारण, लक्षण, बचाव व उपचार छोटे बच्चों के दस्त की दवा बच्चों के दस्त की दवा घरेलू दस्त की आयुर्वेदिक दवा बच्चों के दस्त की दवा सिरप बच्चों के दस्त रोकने की अंग्रेजी दवा दस्त की अंग्रेजी दवा सिरप 2 महीने के बच्चे को दस्त की दवा 3 महीने के बच्चे को दस्त होने पर क्या करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button